Connect with us

Vaishali

HAJIPUR: भारतीय रेल अब नहीं रहेगी ‘आम आदमी की सवारी’, यह है वजह

Published

on

भारतीय रेलवे, जिसे ‘आम आदमी’ माना जाता था, का अर्थ है आम आदमी की सवारी। अब वह मध्यमवर्गीय परिवार के लोगों की जेब ढीली करेगी। रेलवे लंबी दूरी की ट्रेनों में स्लीपर कोच की संख्या में लगातार कमी कर रहा है। रेलवे बोर्ड के कोचिंग विभाग द्वारा 03 जून को जारी एक हालिया और महत्वपूर्ण घटनाक्रम में, ऐसा लगता है कि रेलवे में स्लीपर युग अब समाप्त हो रहा है।

पत्र के अनुसार यह निर्देश दिया गया है कि लम्बी दूरी की सभी मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों के रैक को स्टैंडराईज किया जाना है। जिसके तहत 22 कोचों वाली सभी ट्रेनों में एक-समान रैक लगाए जाएंगे। नए कोच संयोजन में स्लीपर कोच के 2, एसी थर्ड अथवा एसी इकोनॉमी के 10, सेकंड एसी के 4, फर्स्ट एसी के 01, सामान्य श्रेणी के 02 तथा एक किसी भी अन्य श्रेणी का कोच लगाया जाना है, बाकी संख्या जेनरेटर कार, लगेज कार, पैंट्री कार की हो सकती है।

train by trees against blue sky
Photo by RAJAT JAIN on Pexels.com

पहले के कोच कम्पोजीशन में स्लीपर कोचों की संख्या छह या सात निर्धारित हुआ करती थी, जिसे घटाकर केवल 2 किए जाने की योजना है। कम हुए स्लीपर कोचों की जगह थर्ड एसी या एसी इकोनॉमी के कोच लेंगे। एसी इकोनॉमी एक नई श्रेणी रेलवे ने इजाद की है। जिसमें बर्थ की कुल संख्या 72 की बजाय 83 होती है। इस कोच में पर्दा, बेडरोल की सुविधा नहीं दी जाती है और किराया थर्ड एसी के मुताबिक थोड़ा ही कम है। रेलवे की दलील है कि एसी से यात्रा करने वाले यात्रियों की संख्या बढ़ी है और स्लीपर को अब कम यात्री प्राथमिकता देने लगे हैं। इससे रेलवे को राजस्व का भी फायदा होगा तथा यात्रियों को सुविधाएं ज्यादा मिलेंगी। हालांकि देश भर के रेलवे यात्री संगठनों और यात्रियों ने इस दलील पर कड़ी आपत्ति जताते हुए रेल मंत्रालय को ट्वीट और मेल करके इसे वापस लेने की मांग की है। उनका कहना है कि यह जनविरोधी प्रयास है और रेलवे की यह दलील कि अब स्लीपर की बजाय यात्री एसी को प्राथमिकता देने लगे हैं यह भ्रामक है।

थर्ड एसी से 65 से 100 रुपया किराया कम

थर्ड एसी के मुकाबले केवल 65 से 100 रुपया तक किराया कम है। मगर बदले में अपेक्षाकृत सुविधाएं कम हैं। इससे कहीं उचित गरीब रथ ट्रेनें हैं। रेलवे ने यह लक्ष्य निर्धारित किया है कि धीरे-धीरे सभी ट्रेनों को पूर्णतः एसी में तब्दील कर दिया जाएगा, पर क्या रेल से यात्रा करने वाला एक बड़ा तबका इस बदलाव से उत्पन्न होने वाली महंगी रेलयात्रा को स्वीकार करेगा यह सवाल भी खड़ा हो रहा है।

मध्यमवर्गीय परिवार पर पड़ेगा सीधा असर

रेलवे के इस निर्णय से खासकर मध्यवर्गीय परिवार के जेब पर खासा असर पड़ेगा। मध्यमवर्गीय परिवार लंबी दूरी की यात्रा के लिए स्लीपर की बोगी में अपना टिकट बुक कराते हैं। टिकट कन्फर्म नहीं होने पर वेटिंग में ही आधी सीट पर यात्रा करने पर मजबूर हो जाते हैं। रेलवे का यह निर्णय मध्यमवर्गीय परिवार को आर्थिक रूप से काफी नुकसान पहुंचाएगा।

आने वाले दिनों रेलवे अपनी ज्यादातर ट्रेनों के रैक में एकरूपता की योजना पर काम कर रहा है। भविष्य की संभावनाओं को देखते हुए रेलवे बोर्ड ने स्टैंडराइजेश के लिए ऐसा निर्णय लिया है। भविष्य में ट्रेनों से स्लीपर कोच की संख्या को घटाकर दो करने की योजना है। अब लोग एसी में सफर करने को तरजीह दे रहे हैं। – वीरेंद्र कुमार, मुख्यजनसंपर्क अधिकारी, पूर्व मध्य रेल

Vaishali

HAJIPUR: मुहर्रम को लेकर जिला प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं

HAJIPUR: मुहर्रम को लेकर जिला प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं

Published

on

By

मुहर्रम-उल-हरम को शांतिपूर्ण तरीके से मनाने के लिए जिला प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए हैं। इसमें जिला मुख्यालय के अलावा कर्बला व ताजिया पहलम जुलूस के मार्गों पर जगह-जगह पूरी चौकसी बरती जाती है।

पुलिस प्रशासन और गुप्तचर की रिपोर्ट पर चिह्नित किए गए पूरे जिले में 286 स्थलों पर मजिस्ट्रेट और 1500 से अधिक पुलिस कर्मियों की तैनाती कर दी गई है। डीएम यशपाल मीणा और एसपी मनीष ने मुहर्रम के मौके पर सुरक्षा ड्यूटी में जाने वाले मजिस्ट्रेट और पुलिस कर्मियों के साथ सोमवार को समाहरणालय सभाकक्ष में ज्वाइंट ब्रिफिंग की। 

इस दौरान सभी मजिस्ट्रेट और पुलिस कर्मियों को ससयम ड्यूटी वाले स्थान पर योगदान करने और विधि व्यवस्था दुरुस्त रखने के लिए कई आवश्यक निर्देश भी दिया।

मुहर्रम को लेकर आयोजित इस बैठक में डीएम ने सभी मजिस्ट्रेटों और पुलिस कर्मियों को ताजिया जुलूस पर कड़ी नजर रखने के साथ-साथ दो या कई अखाड़ों के सदस्यों की बैठक में भी चौकसी बरतने का निर्देश दिया है।

इस दौरान इस बात का ध्यान रखना होगा कि किसी भी तरह का आपसी टकराव न हो। रूट चार्ट के आधार पर ताजिया जुलूस को विनियमित करने और लाइसेंस की जांच करने का भी निर्देश दिया गया है। जिला प्रशासन ने मुहर्रम के मौके पर मुख्यालय पर कंट्रोल रूम बनाया है। यह कमरा 24 घंटे खुला रहेगा।

नियंत्रण कक्ष के टेलीफोन नंबर 06224-260220 किसी प्रकार की शिकायत, सुझाव और सूचना दी जा सकती है। इस कक्ष में 03 पालियों में मजिस्ट्रेट, पुलिस पदाधिकारी एवं पुलिस बल की प्रतिनियुक्ति की गई है। जिलाधिकारी ने कहा कि सभी संवेदनशील स्थलों पर स्टैटिक दण्डाधिकारी के साथ बल भी प्रतिनियुक्ति की गयी है। वरीय पदाधिकारी लगातर गश्ती करेंगे। पर्व को शांतिपूर्ण संपन्न कराना सभी की जिम्मेवारी है। पुलिस अधीक्षक ने कहा कि लोग अफवाहों से बचें। सोशल मीडिया पर भी कड़ी नजर रखी जाएगी, इसके लिए साइबर सेनानियों का सहयोग लिया जाएगा।

📣 Vaishali Se Hai is now available on Facebook & FB Group, Instagram, and Google News. Get the more latest news & stories updates, also you can join us for WhatsApp broadcast … to get updated!

Continue Reading

Vaishali

HAJIPUR: अवध-असम एक्सप्रेस में मिली अंग्रेजी शराब की 11 बोतलें

HAJIPUR: अवध-असम एक्सप्रेस में मिली अंग्रेजी शराब की 11 बोतलें

Published

on

By

HAJIPUR: 11 bottles of English liquor found in Avadh-Assam Express

पूर्व मध्य रेलवे के सोनपुर स्टेशन पर सोमवार को डाउन अवध असम एक्सप्रेस ट्रेन की एक जनरल बोगी में छापेमारी कर जीआरपी ने बैग में रखे 11 बोतल अंग्रेजी शराब बरामद की।

वहीं छापेमारी के दौरान धंधेबाज भागने में सफल रहे। इस संबंध में जीआरपी के प्रभारी थानाध्यक्ष रेणु सिंह ने बताया कि डाउन अवध असम एक्सप्रेस ट्रेन की एक जेनरल बोगी में छापेमारी कर 750 एमएल के 11 बोतल अंग्रेजी शराब बरामद किया गया। जबकि छापेमारी के दौरान धंधेबाज भागने में सफल रहा। जब्त शराब यूपी मेड है।

📣 Vaishali Se Hai is now available on Facebook & FB Group, Instagram, and Google News. Get the more latest news & stories updates, also you can join us for WhatsApp broadcast … to get updated!

Continue Reading

Vaishali

VAISHALI: अंतिम सोमवार को एक लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने जलभेषिक किया

VAISHALI: अंतिम सोमवार को एक लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने जलभेषिक किया

Published

on

By

Last Sawan Somvar 2022: कब है सावन का आखिरी सोमवार? जानिए शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

सावन के चौथे और अंतिम सोमवार को हरिहर खेत्र शिवमे दिखाई दिए। सोमवार को गंगा-गंडक नदी के दोनों किनारे स्थित विभिन्न घाटों पर लाखों श्रद्धालुओं ने स्नान किया, जलाभिषेक किया और बाबा हरिहरनाथ मंदिर, पातालेश्वरनाथ मंदिर, वैस्लेश्वर नाथ महादेव सहित विभिन्न मठों में पूजा-अर्चना की।

जगह-जगह भजन-कीर्तन के अलावा चारों ओर हर-हर बम-बम के उद्घोष से पूरा क्षेत्र गूंज रहा था। गंगा-गंडक नदी के कालीघाट, पुलघाट, गजेन्द्र मोक्ष देवस्थानम् घाट, सवाइच घाट आदि के सामने स्नान करने वाले श्रद्धालुओं की अहले सुबह से ही भीड़ उमड़ पड़ी थी। एक मोटे अनुमान के मुताबिक एक लाख से अधिक महिला एवं पुरुष श्रद्धालुओं ने हरहर महादेव के जयघोष के बीच महादेव को जलअर्पित किया।

हरिहरनाथ मंदिर में दोपहर बाद तक जलाभिषेक करने वाले श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। पूरा क्षेत्र भक्ति गीतों और पवित्र नारों से गुंजायमान है। हरिहरनाथ मंदिर, काली मंदिर, हनुमान मंदिर, राधे-कृष्ण मंदिर, गवड़ी-शंकर मंदिर, गजेन्द्र मोक्ष देवस्थानम, नर्मदानाथ मंदिर, जड़भारत स्थान आदि को सजाया गया।

शाम को विशेष आरती का आयोजन किया गया। हरिहरनाथ मंदिर में मेकअप परमिंदर कुमार सिंह उर्फ बबलू सिंह ने किया था। आरती समारोह मुख्य अर्चक आचार्य सुशील चंद्र शास्त्री और मद्रासी बाबा के नेतृत्व में वैदिक मंत्रोच्चार के साथ किया गया।

ट्रस्ट कमेटी के सचिव विजय कुमार सिंह लल्ला और कोषाध्यक्ष निर्भय कुमार ने बताया कि मंदिर में दर्जनों मुंडन अनुष्ठान और सत्यनारायण भगवान की कथा के अलावा कई नेक काम किए गए।

📣 Vaishali Se Hai is now available on Facebook & FB Group, Instagram, and Google News. Get the more latest news & stories updates, also you can join us for WhatsApp broadcast … to get updated!

Continue Reading
Advertisement

Trending

close button