HAJIPUR: सूक्ष्म सिंचाई जागरूकता रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

0
HAJIPUR: सूक्ष्म सिंचाई जागरूकता रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया

सूक्ष्म सिंचाई ड्रीप व मिनी स्प्रिरकंलर के अधिष्ठापन से फायदे की जानकारी जागरूकता रथ लोगों को देगा

एसडीओ अरुण कुमार व जिला उद्यान विभाग के सहायक निदेशक ओम प्रकाश मिश्रा ने दिखाई झंडी

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत किसानों को बेहतर सिंचाई की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए योजना चलाई जा रही है। योजना के तहत सूक्ष्म सिंचाई ड्रीप व मिनी स्प्रिरकंलर के अधिष्ठापन से फायदे की जानकारी के लिए सभी प्रखंडों में जागरूकता रथ को भेजा जाएगा। रविवार को एसडीओ अरुण कुमार व जिला उद्यान विभाग के सहायक निदेशक ओम प्रकाश मिश्रा ने संयुक्त रूप से हरी झंडी दिखाकर जागरूकता रथ को रवाना किया।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
WHAT’S APP GROUPJOIN NOW
TELEGRAM CHANNELJOIN NOW
FACEBOOK GROUPJOIN NOW

उद्यान के सहायक निदेशक ने बताया कि रथ जिले के विभिन्न प्रखंडों में भ्रमण करेगा। इस दौरान सरकार के सात निश्चय पार्ट-02 में प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के अंतर्गत सूक्ष्म सिंचाई से होने वाले लाभ की जानकारी दी जाएगी। जागरूकता कार्यक्रम के माध्यम से किसानों को योजना से जुड़ने के लिए प्रेरित व जागरूक किया जाएगा। इसके लिए सूक्ष्म सिंचाई रथ संबंधित प्रखंड क्षेत्र में जगह-जगह नुक्कड़ नाटक के माध्यम से सूक्ष्य सिंचाई योजना व योजना से लाभ के बारे में जागरूक करेंगे। इस कार्यक्रम के प्रथम दिन रविवार को जागरूकता रथ सदर प्रखंड के सेंदुआरी, पहेतिया एवं अफजलपुर धोबघट्टी पंचायत में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। बताया कि रथ प्रत्येक प्रखंड में 03 कार्यक्रम का आयोजन करेगा। प्रखंडवार तिथिवार रूट चार्ट तैयार किया गया है।



90 प्रतिशत अनुदान किसानों को दिया जा रहा

सूक्ष्म सिंचाई योजना अंतर्गत सरकार के द्वारा 90 प्रतिशत अनुदान किसानों को दिया जा रहा है। रथ के माध्यम से फसलवार अनुशंसित ड्रीप सिंचाई पद्धती की लाइव जानकारी दी जाएगी। ड्रीप सिंचाई पद्धती गन्ना, पपीता, केला, आम, लीची, अमरूद, साग-सब्जी, प्याज व आलू फसलों के लिए है। वहीं मिनी प्रिरकंलर पद्धती धान, गेहूं, आलू, प्याज, सब्जी, दलहन, तेलहन के लिए लाभ दायक है।

ड्रीप सिंचाई से होने वाले लाभ के बारे में बताया

उद्यान के सहायक निदेशक ने बताया कि ड्रीप सिंचाई से होने वाले लाभ के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि इसमें 60 प्रतिशत जल की बचत, 25 से 30 प्रतिशत उर्वरक खपत में कमी, 30 से 35 प्रतिशत तक लागत में कमी, 25 से 30 प्रतिशत अधिक बेहतर उत्पादन होता है। योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को उद्यान के सहायक निदेशक या उद्यान निदेशालय के बेबसाइट पर संपर्क किया जा सकता है। इस मौके पर उद्यान के विकास कुमार सहित अनेक पदाधिकारी व लोग मौजूद थे।

📣 Vaishali Se Hai is now available on Facebook & FB Group, Instagram, and Google News. Get the more latest news & stories updates, also you can join us for WhatsApp broadcast … to get updated!

Leave a Reply