Connect with us

Vaishali

VAISHALI: ‘बिहार में बढ़ते अपराध के लिए पशुपति पारस भी जिम्मेदार’, चाचा पर भड़के चिराग

Published

on

VAISHALI: ‘बिहार में बढ़ते अपराध के लिए पशुपति पारस भी जिम्मेदार’, चाचा पर भड़के चिराग

बिहार के हाजीपुर पहुंचे चिराग पासवान ने मीडिया से बात करते हुए अपने चाचा को भी बिहार में बढ़ते अपराध के लिए जिम्मेदार ठहराया है.

बिहार की राजनीति में चिराग पासवान और पशुपति कुमार पारस खुलकर आमने-सामने हैं. दोनों ने कई बार कड़े बयान दिए हैं, लेकिन इस बार चिराग पासवान ने अपने चाचा और केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस पर अपराध को बढ़ावा देने के गंभीर आरोप लगाए हैं।

चाचा पर चिराग पासवान का तंज

चिराग पासवान ने केंद्रीय मंत्री पशुपति कुमार पारस के उस बयान पर टिप्पणी की है, जिसमें उन्होंने कहा था कि बिहार बड़ा राज्य है, यहां कुछ होता है. चिराग पासवान ने कहा कि इस तरह की घटनाओं को इतने हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए. कहीं उस परिवार के बारे में सोचें जिसने परिवार के एक सदस्य को खो दिया है।

ऐसे बयान देने से घटनाएं बढ़ती हैं, अपराधियों का मनोबल बढ़ता है। यही वजह है कि बिहार में अपराध नहीं रुकते क्योंकि ये बयान राजनेता रोज देते हैं। ये बयान अपराधियों को संरक्षित महसूस कराते हैं। चिराग ने कहा कि सोच-समझकर बयान देना जरूरी है।

‘बिहार में बड़े खेल की तैयारी’

वहीं, चिराग पासवान ने बिहार की राजनीति पर कड़ी टिप्पणी करते हुए कहा कि बिहार में बाढ़ जैसी स्थिति दिख रही है और यहां के राजनीतिक दल कुर्सी में हेराफेरी करने में लगे हुए हैं. एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि बिहार में बड़े खेल की तैयारी की जा रही है. कुछ गंध आ रही है। अब केवल राजद सक्रिय हो गया है। जेडीयू को अभी इस रोल में सक्रिय होना बाकी है, यह देखने वाली बात होगी.

बिहार में बड़े खेल की तैयारी हो रही है. अभी तो राजद सक्रिय हुई है. जदयू कब सक्रिय होती है देखने वाली बात होगी. बिहार में बाढ़ के हालात है और जोड़ तोड़ की राजनीति हो रही है. आज की तारीख में जब बिहार में बाढ़ प्रवेश कर चुका है. बाढ़ आएगी बिहार को बचाने के लिए कोई प्रयास नहीं किया गया है. प्राथमिकता बाढ़ की है, रोजगार की है, अपराध रोकने की होनी चाहिए, लेकिन तमाम पक्ष और विपक्ष दोनों जोड़-तोड़ की राजनीति में डूबे हुए हैं“- चिराग पासवान, राष्ट्रीय अध्यक्ष, एलजेपीआर

Vaishali

HAJIPUR: अमृत महोत्सव, डाकघरों में तिरंगा का शोर्तज, खाली हाथ लौटे लोग

HAJIPUR: अमृत महोत्सव, डाकघरों में तिरंगा का शोर्तज, खाली हाथ लौटे लोग

Published

on

By

आजादी की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर आयोजित अमृत महोत्सव के अवसर पर शासन के निर्देशानुसार डाकघरों में आधिकारिक दर पर तिरंगे की बिक्री शुरू हुई। तिरंगा खरीदने के लिए पोस्ट ऑफिस के काउंटरों पर फैंस जुटने लगे। तिरंगे की मांग बड़ी संख्या में बढ़ने लगी।

झंडों की बिक्री कई दिनों से चल रही थी, लेकिन पिछले दो दिनों से हाजीपुर मुख्य डाकघर सहित जिले के विभिन्न डाकघरों में झंडों की शूटिंग जारी है। तिरंगा लेकर पोस्ट ऑफिस आने वालों को खाली हाथ लौटना पड़ता है।

अब स्वतंत्रता दिवस में सिर्फ दो दिन बचे हैं। अमृत महोत्सव के मौके पर 13 अगस्त से कई जगहों पर तिरंगा बांटने का कार्यक्रम आयोजित किया जा चुका है। विभाग के अधिकारियों और डाककर्मियों का कहना है कि मांग के अनुसार तिरंगा उपलब्ध नहीं कराया गया।

जिसके चलते तिरंगे को समय से पहले ही गोली मार दी गई। हालात यह हैं कि लोगों को खाली हाथ लौटना पड़ रहा है। डाक विभाग के एक कर्मचारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि एक व्यक्ति पोस्ट ऑफिस के काउंटर पर 1,000 तिरंगे मंगवा रहा है।

ऐसे में बिक्री के लिए बहुत कम तिरंगा उपलब्ध है। विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने राज्य और केंद्रीय कार्यालयों में तिरंगा फहराने की जानकारी दी है। साथ ही लोगों की मांग को पूरा करने के लिए तिरंगा उपलब्ध कराने की मांग की गई है।

हाजीपुर मुख्य डाकघर के पोस्टर मास्टर जगजीत सिंह ने बताया कि पिछले दो दिनों से तिरंगे के शॉट्स चल रहे हैं। तिरंगा लेकर आने वाले लोगों को वापस लौटना पड़ता है। स्टॉक मिलने के बाद सेल शुरू होगी।

Continue Reading

Vaishali

HAJIPUR: सदर अस्पताल में सही इलाज न मिलने से महिला की मौत, परिजनों ने किया हंगामा

HAJIPUR: सदर अस्पताल में सही इलाज न मिलने से महिला की मौत, परिजनों ने किया हंगामा

Published

on

By

प्रसव के बाद तेज दर्द होने से महिला की सदर अस्पताल में मौत हो गई। महिला की मौत के बाद मृतका के परिजनों ने अस्पताल में जमकर हंगामा किया. घटना की सूचना पर नगर थाना पुलिस ने आक्रोशित लोगों को समझा-बुझाकर मामला शांत कराया।

सिटी एसएचओ सुबोध कुमार सिंह ने बताया कि मामले में आवेदन मिलने के बाद पुलिस कार्रवाई करेगी। जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

परिजनों ने बताया कि सदर थाना क्षेत्र के मनवा गांव निवासी अनिल राम की पत्नी पूजा कुमारी (19) को प्रसव पीड़ा के चलते बुधवार की रात प्रसव के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। सदर अस्पताल में मौजूद महिला स्टाफ ने परिजनों को बताया कि महिला और बच्चे की हालत बेहद नाजुक है.

महिला का बड़ा आपरेशन होगा। इसके लिए पांच हजार रुपया जमा करें। इसके बाद स्वजन तत्काल आपरेशन के लिए पांच हजार रुपया जमा कर दिए। आरोप है कि पैसे जमा कराने के बाद महिला का आपरेशन किया गया। आपरेशन के बाद बच्चा को निकाल कर नवजात शिशु गहन चिकित्सा केंद्र में उसे भर्ती करा दिया गया। जबकि महिला को वार्ड में रख दिया गया। प्रसव के पश्चात महिला की पीड़ा और अधिक बढ़ गई। इसके बाद स्वजनों ने मौके पर तैनात महिला डॉक्टर से उसका उपचार करने को कहा।

लेकिन अस्पताल में तैनात महिला डाक्टर इस ओर ध्यान नही दिया। जब महिला काफी छटपटाने लगी तो स्वजन शोर मचाने लगे उसके बाद उसे स्लाईन चढ़ाया गया लेकिन उसकी बेचैनी नही कमी तो उसे आक्सीजन लगा दिया गया। इसके बाद महिला चिकित्सक ने अपने कर्तव्य की इतिश्री समझ ली। मरीज की देखभाल सही ढ़ंग से नही करने के बाद कारण महिला की मौत हो गई। स्वजनों ने बताया कि पुत्र जन्म लेने के कारण सभी ने उससे जबरन तीन हजार रुपया भी खर्च करवा लिया। मौत के बाद परिजनों में कोहराम मचा गया। सूचना पर महिला के गांव से काफी संख्या में लोग सदर अस्पताल पहुंच गए।

मौके पर जुटे लोगों ने सदर अस्पताल में जमकर बवाल किया। सदर अस्पताल में हंगामे की सूचना पाकर मौके पर पहुंची नगर थाना की पुलिस ने आक्रोशित लोगों को समझा कर तथा उचित कार्रवाई का भरोसा दिलाकर मामले को शांत करवाया।

Continue Reading

Vaishali

वैशाली में ताजिया जुलूस के दौरान लोगों ने एक-दूसरे पर लाठियां बरसाईं

वैशाली में ताजिया जुलूस के दौरान लोगों ने एक-दूसरे पर लाठियां बरसाईं

Published

on

By

बिहार के वैशाली में वर्चस्व की लड़ाई में ताजिया जुलूस के बहाने दो पक्षों (वैशाली में दो गुटों के बीच झड़प) ने जमकर हंगामा किया। दर्जनों लोगों ने घंटों तक एक-दूसरे पर जमकर लाठियां भांजी। फिर दोनों पक्षों की ओर से जमकर हंगामा हुआ।

घटना में एक दर्जन से अधिक लोग घायल हुए हैं, जो इलाज के लिए निजी नर्सिंग होम में छिपे हुए हैं। घटना का वीडियो भी तेजी से वायरल हो रहा है, हालांकि इस संबंध में न तो पार्टी ने पुलिस को जानकारी दी है और न ही पुलिस ने इसके सोर्स या वायरल वीडियो के आधार पर कोई कार्रवाई की है. मामला जिले के राजापाकर प्रखंड के राजापाकर उत्तर पंचायत में स्थित कब्रिस्तान के पास का है।

आगे निकलने को लेकर हुआ विवादः

बताया जा रहा है एक ही ग्रामीण सड़क पर एक ही समय में दो ताजिया जुलूस के अखाड़े आ गए थे. फिर आगे निकलने को लेकर दोनों में विवाद शुरू हुआ और बात मारपीट तक पहुंच गई. दोनों तरफ से लाठियां बरसाई गईं. उसके बाद रोड़े भी चले. हालांकि जब दोनों पक्ष एक दूसरे पर लाठियां बरसा रहे थे, तब स्थानीय बुजुर्ग लोगों ने समझा बुझाकर मामला के शांत करवा दिया था. लेकिन जैसे ही एक पक्ष जाने के लिए मुड़ा दूसरे पक्ष ने रोड़ेबाजी शुरू कर दी. फिर पहले ने भी जवाबी हमला किया और दोनो पक्ष दोबारा भिड़ गए.

चर्चा का विषय बना मामलाः

इस घटना में घायल हुए लोगों को इलाज के लिए स्थानीय निजी अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। बाद में दोनों पक्षों ने पंचायती कर मामले को थाने जाने से रोक दिया। घायलों की जानकारी पुलिस को नहीं दी गई।

सूत्रों के मुताबिक सभी घायलों का इलाज पास के निजी अस्पतालों और झोलाछाप डॉक्टरों में चल रहा है। वहीं वीडियो वायरल होने की वजह से बैलेटिंग का मामला चर्चा का विषय बना हुआ है.

मामले को लेकर पुलिस सतर्कः

सूत्रों की माने तो पुलिस दोनो पक्षों से मिली थी, लेकिन दोनों ने ही मामला दर्ज कराने से इनकार कर दिया है. जिसके बाद पुलिस सतर्क होकर नजर बनाए बनाए हुई है. ताकि मामला दोबारा तूल नहीं पकड़े. हालांकि इस विषय में महुआ एसडीपीओ पुनम केशरी से कई बार संपर्क करने का प्रयास किया गया लेकिन फोन पर भी उनसे संपर्क नहीं हो पाया. वही राजापाकड़ थानाध्यक्ष रविकांत पाठक ने बताया कि किसी पक्ष के द्वारा मामला दर्ज कराने पर पुलिस करवाई करेगी.

Continue Reading
Advertisement

Trending

close button