VAISHALI: उमस भरी गर्मी में लोगों को रुला रही बिजली कटौती

0
43
VAISHALI: उमस भरी गर्मी में लोगों को रुला रही बिजली कटौती

नॉर्थ बिहार पॉवर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी (एनबीपीडीसी) निर्बाध बिजली सप्लाई का दावा करती है, लेकिन इस जानलेवा उमस भरी गर्मी में बिजली व्यवस्था सुधरने का नाम नहीं ले रही है। हाजीपुर विद्युत प्रमंडल के शहरी क्षेत्र से लेकर ग्रामीण इलाके में बीते जून से कटौती की जा रही है। शहरी क्षेत्र में बिजली कटौती का कुछ कम असर है, लेकिन ग्रामीण इलाकों में सबसे खराब स्थिति है। विद्युत कार्यपालक अभियंता चंदन कुमार ने बताया कि बिजली की उपलब्धता जितनी मिल रही है, उतनी लोगों तक पहुंचाई जा रही है।

फॉल्ट और खपत बढ़ने से 33 केवी फीडरों से लेकर ट्रांसफार्मरों पर लोड बढ़ने से पावर ट्रिपिंग शुरू हो गई है। जिले में अधिक लोड, फॉल्ट लगने के कारण पावर ट्रिपिंग से रुक-रुककर बिजली गुल हो जा रही है। इसी तरह फ्यूज कॉल सहित अन्य मेंटेनेंस के नाम पर भी बिजली काटी जा रही है। दिन में जानलेवा उमसभरी गर्मी व रात में गर्मी में बिजली गुल होने से लोगों का जन-जीवन प्रभावित हो गया है।

एनबीपीडीसी के स्थानीय विद्युत अभियंताओं का कहना है कि प्रचंड गर्मी के कारण बिजली की खपत 25 प्रतिशत से अधिक बढ़ गई है। बिजली की खपत का सीधा असर फीडर एवं सप्लाई ट्रांसफार्मरों पर पड़ा है, जिसके कारण पावर ट्रिपिंग एवं फ्यूज वॉयर जलने की समस्या ज्यादा सामने आ रही है। शुक्रवार को हाजीपुर विद्युत प्रमंडल कार्यालय स्थित जिला कंट्रोल रूम में अपराह्न 2.52 बजे तक 36 उपभोक्ताओं ने फ्यूज कॉल मेंटेनेंस के लिए कॉल किया। फ्यूज कॉल में मेंटेनेंस के लिए कॉल जाने के बाद कंट्रोल रूम से संबंधित एरिया के बिजली कामगारों को सूचित किया गया। कंट्रोल रूम कर्मी का कहना है कि गर्मी तेज होने के बाद प्रतिदिन 100 से ज्यादा कॉल आता है।

VOTE NOW क्या बिहार में दारू का कानून वापस लिया जायेगा?

नहीं
50.00%
हाँ
50.00%
पता नहीं
0.00%
See also  HAJIPUR: शहर के लोगों ने माना कि इस बार जलजमाव से काफी राहत मिली है

ट्रिपिंग से आधे घंटे गुल रही बिजली

इसके अलावा संबंधित इलाके कनीय अभियंता एवं बिजली कामगारों के मोबाइल पर मेंटेनेंस के लिए शिकायत दर्ज कराई जा रही है। शुक्रवार को लोड बढ़ने से अपराह्न 2.51 बजे कोनहारा-33 केवी फीडर में पावर ट्रिप किया। पावर ट्रिपिंग के कारण कुछ देर के लिए कोनहारा विद्युत प्रमंडल कार्यालय सहित कोनहारा पावर सब स्टेशन से जुड़े शहरी इलाके एवं आसपास के ग्रामीण इलाकों में बिजली गुल हो गई। फिर अपराह्न 03 बजे कोनहारा-33 केवी फीडर में पावर ट्रिपिंग से आधे घंटे तक उक्त इलाके में बिजली गुल हो गई। सहायक विद्युत अभियंता जियाउल हक अंसारी ने बताया कि कम विद्युत आपूर्ति के कारण 11 केवी फीडरों में भी बिजली कटौती की जा रही है।

red lens sunglasses on sand near sea at sunset selective focus photography
Photo by Nitin Dhumal on Pexels.com

गुरुवार की रात बिजली की उपलब्धता 55 मेगावाट

गुरुवार की रात बिजली की उपलब्धता में 50 प्रतिशत से अधिक कटौती की गई। कार्यपालक अभियंता चंदन कुमार ने बताया कि दिन में करीब 100 मेगावाट की जरूरत है और शाम से लेकर पूरी रात 115 से 120 मेगावाट बिजली की जरूरत है, लेकिन गुरुवार की रात अचानक बिजली की उपलब्धता घट 55 मेगावाट हो गई। बिजली उपलब्धता के आधार पर पॉवर सब स्टेशनों को बिजली की खपत करने का निर्देश दिया गया ताकि पावर ट्रिपिंग न हो। उन्होंने बताया कम पावर मिलने से 11 केवी फीडरों में लोड शेडिंग के तहत रोटेनेशन में बिजली की सप्लाई करने की व्यवस्था की गई है। लोड शेडिंग के कारण एक मोहल्ले को मिलती है, लेकिन बगल के मोहल्ले में अंधेरा में डूब जाता है।

See also  HAJIPUR: नाबालिग बेटी से दुष्कर्म के मामले में पिता को उम्र कैद

बिजली कटौती का सीधा असर

सहायक अभियंता श्री अंसारी ने बताया कि गुरुवार की रात कोनहारा पावर सब स्टेशन को 10 मेगावाट बिजली मिली, जबकि खपत 20 मेगावाट से अधिक है। इसी तरह पासवान चौक स्थित पॉवर सब स्टेशन की जरूरत है 12-13 मेगावाट मिला 6-7 मेगावाट, दिग्घी को जरूरत है 5-6 मेगावाट लेकिन मात्र 03 मेगावाट बिजली मिली। इससे बिजली संकट का सहज अनुमान लगाया जा सकता है। बिजली कटौती का सीधा असर व्यवसायिक प्रतिष्ठानों पर पड़ा रहा है। इसके छात्रों एवं महिलाओं को सबसे ज्यादा परेशानी हो रही है। गांधी आश्रम के संजीव कुमार, चौधरी आप्तमान अभय ने बताया कि फ्यूज कॉल के लिए शिकायत दर्ज कराने के एक से डेढ़ घंटे में फ्यूज का मरम्मत किया जाता है जिससे मोहल्ले में बिजली गुल रहती है।

Leave a Reply