Connect with us

Bihar

बिहार: जिस मिहिला को मृत कहा, डेढ़ महीने बाद प्रेमी के साथ निकली जिन्दा, हत्या के आरोप में पति जेल में है

बिहार: जिस मिहिला को मृत कहा, डेढ़ महीने बाद प्रेमी के साथ निकली जिन्दा, हत्या के आरोप में पति जेल में है

Published

on

बिहार: जिस मिहिला को मृत कहा, डेढ़ महीने बाद प्रेमी के साथ निकली जिन्दा, हत्या के आरोप में पति जेल में है

बिहार के पूर्वी चंपारण जिले में एक चौंकाने वाली खबर सामने आई है. तकरीबन डेढ़ महीने पर जिस महिला की मौत हो गई थी, जिसकी हत्‍या के आरोप में उनका पत‍ि जेल में बंद है, वह अब जिंदा मिली हैं. हत्‍या के मामले में नया ट्विस्‍ट आने से आमलोगों के साथ ही पुलिस भी भौंचक्‍का है.

घटना की सच्‍चाई सामने आने के बाद सबसे बड़ा सवाल यही उठ रहा है कि आखिरकार पुलिस ने हत्‍या जैसे संगीन आरोप में प्राथमिक छानबीन किए बगैर मामला दर्ज कर कैसे कार्रवाई शुरू कर दी? महिला के जिंदा पाए जाने पर फिलहाल पुलिस भी आश्‍चर्यचकित है.

जानकारी के मुताबिक महिला की हत्या को लेकर उसके पिता ने सुगौली थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई थी. इस पर पुलिस ने महिला के पति शेख सद्दाम को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. करीब डेढ़ महीने से सजा भुगत रहे सद्दाम के परिजनों ने महिला को जिंदा मृत घोषित कर दिया है. महिला को मोतिहारी नगर के अगरवा मोहल्ले से बरामद किया गया है।

वह अपने प्रेमी के साथ रह रही थी। घटना सुगौली थाने के निमुई गांव की है. पक्कीदयाल थाना क्षेत्र निवासी महिला के पिता सफी अहमद ने अपने दामाद शेख सद्दाम पर दहेज के लिए बेटी नाजनीन खातून की हत्या करने और शव गायब करने का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज कराई थी.

महिला के पिता ने लगाए थे गंभीर आरोप

सफी अहमद द्वारा दर्ज प्राथमिकी में आरोप लगाया गया था कि उनकी बेटी की हत्या करने के बाद नवजात का अपहरण कर ससुरालवालों ने उसे कहीं छुपा दिया है. प्राथमिकी में सफी अहमद ने आरोप लगाया था कि दहेज में 5 लाख रुपये की मांग की गई थी और रुपये नहीं देने के कारण हमेशा नाजनीन की पिटाई की जाती थी. पिटाई के दौरान हत्या करने की धमकी भी दी जाती थी. सुगौली थाना पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर आनन-फानन में मृतका के पति शेख सद्दाम को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. सद्दाम गत 4 जून से मोतिहारी सेंट्रल जेल में विचाराधीन कैदी की तरह रह रहा है.

मृत महिला को ढूंढ़ निकाला

सद्दाम के परिजनों ने मृत घोषित नाजनीन खातून को मोतिहारी नगर के अगरवा मोहल्ला से खोज निकाला. वह अपने प्रेमी फैयाज के साथ घर से फरार हो गई थी. फैयाज प्रेमिका नाजनीन को मोतिहारी के अगरवा मुहल्ला में एक किराये के मकान में रखता था, जहां वह कभी-कभी आया भी करता था. नाजनीन अपने पुत्र के साथ रह रही थी. बीती रात बेटे की तबीयत बिगड़ने के बाद डॉक्टर से दिखाने के क्रम में मामले का खुलासा हुआ. ससुराल पक्ष के लोगों ने अगरवा मुहल्ला से नाजनीन को बरामद किया. मृत घोषित नाजनीन को बरामद कर ससुरालवालों ने सुगौली थाना पुलिस को सूचित किया, जहां से पुलिस ने मृत घोषित महिला को बरामद कर न्यायलय में पेश किया.

सोर्स: News 18

Bihar

BIHAR: महिला टीचर ने 6वीं क्लास के बच्चे से करवाए 300 उठक-बैठक, बेहोश होकर पहुंचा अस्पताल

BIHAR: महिला टीचर ने 6वीं क्लास के बच्चे से करवाए 300 उठक-बैठक, बेहोश होकर पहुंचा अस्पताल

Published

on

By

BIHAR: The female teacher got the 6th class child done 300 sit-ups, fainted and reached the hospital

बिहार में एक महिला टीचर की हैवानियत की कहानी सामने आई है। इस लेडी टीचर ने एक स्कूली बच्चे के साथ दरिंदगी की ऐसी हदें पार कर दीं कि मासूम को तीन दिन तक अस्पताल में भर्ती रहना पड़ा।

मामला बिहार के शेखपुरा जिले से जुड़ा हुआ है। नीति आयोग ने जहां आकांक्षी जिले के तहत बेहतर शिक्षा प्रदान करने में इस जिले को पूरे भारत में प्रथम स्थान दिया है, वहीं दूसरी ओर बरबीघा ब्लॉक के तहत एक स्कूल में हुई घटना ने इसे शर्मसार कर दिया है।

इस घटना के बाद स्कूल प्रबंधन पर सवाल उठ रहे हैं. दरअसल, बरबीघा प्रखंड के मध्य विद्यालय खलीलचक में कक्षा 6 के छात्र रोशन के साथ यह दरिंदगी हुई। रोशन जब किसी कारणवश एक दिन स्कूल नहीं आया तो स्कूल की शिक्षिका सीता देवी को इतना गुस्सा आया कि उसने रोशन को तीन सौ बार उठकर बैठने की सजा सुनाई।

BIHAR: The female teacher got the 6th class child done 300 sit-ups, fainted and reached the hospital

जब रोशन को क्लास में सजा सुनाई गई तो वह उठक-बैठक करने लगा। इस दौरान वह करीब 200 उठक-बैठक करते हुए बेहोश हो गया। उसके बेहोश होते ही हड़कंप मच गया। स्कूल के शिक्षक और परिजन उसे बरबीघा अस्पताल ले गए जहां भर्ती होने के बाद तीन दिन तक उसका इलाज चलता रहा।

पीड़ित छात्रा ने न्यूज 18 को आपबीती सुनाई. हालांकि इस घटना के बाद आरोपी टीचर स्कूल नहीं आ रहा है। स्थानीय पंचायत प्रतिनिधि ने भी बच्चे के साथ हुई इस तरह की घटना पर आपत्ति जताई है।

गौरतलब है कि नई शिक्षा नीति में ड्रॉपआउट बच्चों को स्कूल लाने के लिए सरकार ने कई गुणात्मक पहल की हैं। डीएम ने भी इस घटना का संज्ञान लेते हुए शिक्षा परियोजना के डीपीओ को जांच के आदेश दिए हैं।

अगर जांच में घटना की पुष्टि होती है तो निश्चित तौर पर कार्रवाई की उम्मीद है। आरोपी टीचर स्कूल नहीं आ रही है जिसके चलते उसकी तरफ से कोई जवाब नहीं मिला है।

📣 Vaishali Se Hai is now available on Facebook & FB Group, Instagram, and Google News. Get the more latest news & stories updates, also you can join us for WhatsApp broadcast … to get updated!

Continue Reading

Bihar

बिहार में आया नई सरकार का फॉर्मूला, 8-10 महीने रहेंगे सीएम नीतीश; क्या तेजस्वी को मिलेगी कमान!

बिहार में आया नई सरकार का फॉर्मूला, 8-10 महीने रहेंगे सीएम नीतीश; क्या तेजस्वी को मिलेगी कमान!

Published

on

By

पटना: बिहार की सियासत में बदलाव की हवा चली है. बिहार में नीतीश कुमार और महागठबंधन ने एक बार फिर गठबंधन कर लिया है. हालांकि, आधिकारिक घोषणा का इंतजार है। इस बीच नई सरकार में नीतीश कुमार कितने महीने बिहार के मुख्यमंत्री रहेंगे, इसका फॉर्मूला भी तैयार कर लिया गया है.

न्यूज़ 18 के एक रिपोर्ट के मुताबित महागठबंधन और जदयू के गठबंधन में सिर्फ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ही रहेंगे. हालांकि, नीतीश कुमार पहले आठ से 10 महीने तक मुख्यमंत्री बने रहेंगे, जिसके बाद वह तेजस्वी यादव को मुख्यमंत्री की कमान सौंपेंगे।

सूत्रों के मुताबिक जेडीयू के नीतीश कुमार मुख्यमंत्री होंगे और राजद नेता तेजस्वी यादव डिप्टी सीएम होंगे। हालांकि आठ से दस महीने बाद नीतीश कुमार तेजस्वी यादव को मुख्यमंत्री पद सौंपेंगे. इसका कारण बताया जा रहा है कि नीतीश कुमार आगामी लोकसभा चुनाव की तैयारी करेंगे।

फिलहाल नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव के बीच महागठबंधन सरकार को लेकर डील फाइनल हो चुकी है, लेकिन अभी ऑफिशियल अनाउंसमेंट ही हुई है.

दरअसल, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड (जद-यू) और मुख्य विपक्षी दल राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेतृत्व वाले महागठबंधन के बीच गठबंधन हो गया है। माना जा रहा है कि जल्द ही इसकी आधिकारिक घोषणा कर दी जाएगी। इस बीच पटना के 1 आने मार्ग और राजभवन की सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

आपको बता दें कि सीएम नीतीश कुमार 1 अणे मार्ग स्थित इस आवास पर जदयू के विधायकों और सांसदों के साथ अहम बैठक कर रहे हैं. इतना ही नहीं सूत्रों ने बताया कि नीतीश कुमार ने राज्यपाल से मिलने के लिए समय मांगा और जल्द ही राजभवन जाएंगे. सूत्रों के मुताबिक राज्यपाल ने नीतीश कुमार को दोपहर 12:30 बजे मिलने का समय दिया है. बता दें कि आज पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास पर महागठबंधन के नेताओं की बैठक भी हुई.

सोर्स: News 18 Hindi

📣 Vaishali Se Hai is now available on Facebook & FB Group, Instagram, and Google News. Get the more latest news & stories updates, also you can join us for WhatsApp broadcast … to get updated!

Continue Reading

Business

VAISHALI: साल में चार जॉब, फिर शादी के 30वें दिन बहू BPSC में सफल, मिलिए ऑफिसर दुल्हन से!

VAISHALI: साल में चार जॉब, फिर शादी के 30वें दिन बहू को मिला BPSC, मिलिए ऑफिसर दुल्हन से!

Published

on

By

सपने तो हर कोई देखता है, लेकिन ऐसे बहुत कम लोग होते हैं जो अपने सपनों को सच करते हैं। बिहार के हाजीपुर की रुचिला रानी उन लोगों में से हैं जिन्होंने न सिर्फ अधिकारी बनने का सपना देखा बल्कि आज उस सपने को भी पूरा किया है।

एक साल में चार सरकारी नौकरी की परीक्षा पास कर चुके रुचिला ने शादी एक महीने तक खत्म होते ही बीपीएससी पास कर जिले को फेमस कर दिया है, जिसके बाद से लोग अफसर की बेटी के ससुराल होने की बात कहने लगे हैं।

ग्रामीण परिवेश और मध्यम वर्गीय परिवार से आने वाली रुचिला ने अपनी मेहनत और कठिन परिश्रम से ना सिर्फ एक साल में चार सरकारी नौकरी हासिल की बल्कि शादी के तीसवें दिन ही बीपीएससी की परीक्षा पास कर अधिकारी बन गई हैं, जिसके बाद उसके मायके से लेकर ससुराल तक जश्न का माहौल है. मायके में घरवलों के साथ-साथ गांव के लोग भी अपनी इलाके की बेटी की इस सफलता पर उत्साहित हैं तो पति को भी अपनी नई नवेली दुल्हन पर गर्व हो रहा है.

VAISHALI: Four jobs in a year, then daughter-in-law got BPSC on 30th day of marriage, meet officer bride!

बीपीएससी की परीक्षा में 215वां रैंक पाने वाली रुचिला ने घर पर ही रहकर सेल्फ स्टडी से यह मुकाम हासिल की है. इसके पीछे उसके माता पिता का बहुत बड़ा योगदान है. पेशे से सरकारी शिक्षक उसके पिता ने पाई-पाई जोड़कर अपनी बेटी को पढ़ाया और समाज की परवाह किये बगैर अपनी बेटी को इतना काबिल बनाया कि आज बेटी के मायके से लेकर ससुराल तक उत्साह है.

रूचिला की मां ने अपनी बेटी को उन लोगो की नजरों से छिपाकर रखा जो लोग बेटियों को घर मे बिठाने पर ताना मारने का काम करते हैं, मां ने तो आज तक अपने पैरों में पायल तक नहीं पहना क्योंकि पायल की आवाज बेटी की पढ़ाई में खलल डाल सकता था लेकिन आज बेटी की सफलता की गूंज पूरे जिले में सुनाई दे रही है.

बीपीएससी पास करने और प्रोबेशनरी ऑफिसर बनने से पहले रुचिला ने फरवरी महीने में शराबबंदी विभाग में बिहार के शिक्षकों, बिहार पुलिस, रेलवे के इंस्पेक्टर की नौकरी में अपनी जगह बनाई थी, लेकिन आखिरकार सिविल सेवा में जाने का जुनून विकसित हो गया। उन्होंने बीपीएससी की परीक्षा दी, इसे भी पास किया।

Continue Reading
Advertisement

Trending

close button