VAISHALI: गोरौल में दिनदहाड़े कंप्यूटर सेंटर संचालक की हत्या

0
335

कंप्यूटर सेंटर चलाने वाले एक युवक की अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी। मृत युवक गोरौल गांव निवासी गोपाल सिंह का 26 वर्षीय पुत्र विकास कुमार बताया गया है। घटना के बारे में प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि मृत युवक किराए के मकान में कम्प्यूटर टाइपिंग सेंटर चलाता था। रोज की तरह मंगलवार को भी वह दुकान खोलकर बैठा ही था कि कुछ समय बाद एक बाइक से दो अपराधी पहुंचे और दुकान के अंदर घुस गए। अपराधियों ने एक गोली उसके सिर में और दो गोली छाती में मारी और भाग निकले।

सिर में और सीने में गोली लगने के कारण युवक की मौत घटनास्थल पर ही हो गई। दिनदहाड़े हुई इस हत्या की खबर आग की तरह चारों तरफ फैल गई। मृतक के परिजनों के अलावा आसपास के लोग भी मौके पर आ पहुंचे और गोरौल चौक से गोरौल रेलवे स्टेशन जाने वाली सड़क को पूर्णतः जाम कर हंगामा करना लगे। इधर, हत्या की सूचना मिलते ही थानाध्यक्ष संजीव कुमार, अवर निरीक्षक विकास कुमार पुलिस बल के साथ घटनास्थल पर आ धमके और शव को कब्जे में लेने का हर संभव प्रयास करने लगे।

अधिक भीड़ और जमकर हो रहे विरोध के कारण पुलिस की एक न चली और भीड़ ने पुलिस बल को वहां से खदेड़ दिया। सूचना पर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी महुआ पूनम केसरी, सदर एसडीपीओ राघव दयाल, सराय थानाध्यक्ष अनिल कुमार, भगवानपुर थानाध्यक्ष राजकुमार परमहंस, कटहरा ओपीध्यक्ष फैयाज हुसैन के अलावा आसपास का पुलिस बल भी घटनास्थल पर पहुंचा और लोगों को समझना बुझाना शुरू कर दिया, लेकिन लोग मानने को तैयार नहीं थे।

VOTE NOW क्या बिहार में दारू का कानून वापस लिया जायेगा?

नहीं
50.00%
हाँ
50.00%
पता नहीं
0.00%
See also  VAISHALI: मजदूरी के अभाव में पलायन कर रहे हैं गरीब मजदूर

युवक को 29 जून को देनी थी गवाही

उनका कहना था कि पहले आरोपित को गिरफ्तार किया जाए उसके बाद ही शव को उठाने देंगे। मृतक के परिजनों का कहना था कि मृतक के बड़े भाई विक्रम कुमार एवं चचेरे भाई पवन सिंह को अपराधियों ने वर्ष 2014 में गोली मारकर जख्मी कर दिया था। इसी मामले में मृत युवक गवाह था। उसी केश में उसे 29 जून को गवाही देना था। गवाही नहीं देने का दवाव अपराधियों द्वारा मृतक पर लगातार बनाया जा रहा था। इसी से नाराज होकर अपराधियों ने साक्ष्य मिटाने के उद्देश्य से विकास की हत्या कर दी।

पूछताछ के लिए तीन को लिया हिरासत में

लगभग 05 घंटे की मशक्कत के बाद पुलिस ने शव को कब्जे में लिया और पोस्टमार्टम के लिए हाजीपुर भेजकर आवागमन चालू कराया। समाचार लिखे जाने तक प्राथमिकी दर्ज करने की कार्रवाई चल रही थी, लेकिन पुलिस अपराधी का नाम बताने से पुलिस परहेज कर रही है। एसडीपीओ पूनम केसरी ने बताई कि सीसीटीवी कैमरे में यह घटना कैद हो गई है। अपराधियों की पहचान लगभग कर ली गयी है। 03 लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में भी लिया गया है। अन्य अपराधियों को पकड़ने के लिए सघन छापेमारी की जा रही है।

सोर्स: लाइव हिंदुस्तान (फोटो: बिश्वजीत कुमार)

Leave a Reply