BIHAR: कौन है गुरु ऋग्वेद कालीन रहमान, जिसकी तलाश पुलिस कर रही थी, जानिए क्या रोले थि अग्निपथ प्रोटेस्ट में

0
BIHAR: कौन है गुरु ऋग्वेद कालीन रहमान, जिसकी तलाश पुलिस कर रही थी, जानिए क्या रोले थि अग्निपथ प्रोटेस्ट में

केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन के मामले में अब पुलिस की कार्रवाई शुरू हो गई है। इस योजना के खिलाफ सबसे ज्यादा उग्र विरोध बिहार में देखने को मिला।

उस दौरान आगजनी और लूटपाट की घटनाओं को भी अंजाम दिया गया था। पुलिस मुख्यालय की ओर से सोमवार को जारी बयान के अनुसार सरकारी संपत्ति को नष्ट करने, आगजनी और तोड़फोड़ के खिलाफ राज्य भर में कुल 161 प्राथमिकियां दर्ज की गई हैं।

इसके साथ ही बिहार पुलिस शुरुआती जांच में हिंसक प्रदर्शनों के पीछे कोचिंग संस्थानों का हाथ बता रही है। पुलिस ने ऐसे कोचिंग संस्थानों और संचालकों के खिलाफ जांच शुरू कर दी है। इसी कड़ी में पटना के मशहूर कोचिंग टीचर गुरु रामहन के खिलाफ भी छापेमारी चल रही है.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

17 जून को दानापुर में हुई हिंसा के मामले में पुलिस ने गुरु रहमान के खिलाफ दंगा भड़काने का मामला दर्ज किया है। सोमवार को पटना पुलिस ने गोपाल मार्केट में स्थित रहमान के कोचिंग संस्थान पर छापा मारा, लेकिन रहमान मौके पर नहीं मिला।



कौन हैं गुरु रहमान?

सारण जिले के बसंतपुर में जन्मे गुरु रहमान को शिक्षाविद बताया जा रहा है। वर्तमान में, रहमान गोपाल मार्केट, पटना में एम (एआईएम) नामक एक कोचिंग सेंटर चलाते हैं। दावा किया जा रहा है कि यूपीएससी में पिछले 22 साल में 40 उम्मीदवारों का चयन उनके कोचिंग सेंटर से हुआ है।

रहमान खुद भी UPSC Aspirant रच चुके हैं। दो बार यूपीएससी के इंटरव्यू तक पहुंचकर असफल होने वाले रहमान गरीब बच्चों को UPSC की तैयारी करवाने के लिए जाने जाते हैं। यही वजह है कि इनके कोचिंग में बिहार के अलावा झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और उत्तराखंड तक से आकर बच्चे पढ़ते हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, आर्थिक रूप से कुछ बेहद कमजोर बच्चे 11 से 100 रुपये तक की फीस देकर तैयारी करते हैं।

रहमान के नाम की उपलब्धियां:

17 जून को अग्निपथ योजना के खिलाफ बोलते हुए, गुरु रहमान ने कहा था, “छात्र ट्रेन को रोक सकते हैं क्योंकि उनके जीवन को रोका जा रहा है। ट्रेन को रोकेंगे लेकिन उसे जलाएंगे नहीं, ट्रैक को उखाड़ेंगे नहीं। मैं इन छात्रों के साथ चलने के लिए तैयार हूं। इस बार की क्रांति पूरी क्रांति से बड़ी होगी।

गुरु रहमान आपातकाल के विरुद्ध 1975 में हुई जिस संपूर्ण क्रांति की बात कर रहे हैं, उस क्रांति से एक वर्ष पहले 10 जनवरी 1974 को इनका जन्म हुआ था। शुरुआती पढ़ाई सारण और डेहरी ऑन सोन से हुई। प्राचीन भारत एवं पुरातत्व विषय में बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (BHU) से ग्रेजुएशन किया। इसी विषय में मास्टर्स भी किया। रहमान की सबसे यूनिक उपलब्धि उनकी पीएचडी है। इन्होंने साल 1997 में ऋग्वेद कालीन आर्थिक एवं सामाजिक विश्लेषण पर अपनी पीएचडी लिखी है। कोचिंग सेंटर में पढ़ाने के साथ-साथ रहमान पटना विश्वविद्यालय में भी पढ़ा चुके हैं। यह प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय गुरु रहमान को बेस्ट टीचर से अवार्ड से नवाज चुका है।

सोर्स: जन सट्टा

📣 Vaishali Se Hai is now available on Facebook & FB Group, Instagram, and Google News. Get the more latest news & stories updates, also you can join us for WhatsApp broadcast … to get updated!

Leave a Reply